सेवा है यज्ञकुंड

नमस्कार,

मैं जितेंद्र हेमंत पवार, हम सभी को पता है आज पूरा विश्व इस वैश्विक महामारी कोविड-19 कोरोना वाइरस से लड़ रहा है, निश्चित हम इस युद्ध मे विजयी होंगे।

लगभग देशो की स्थिति इस समय गंभीर है, हर देश अपनी विवेक बुध्दि और सामर्थ्यता से इस महामारी को चुनोती दे रहा है ऐसे मे हमारा देश भारत(INDIA) भी इस चुनोती से लड़ कर विश्व मे एक साथ रहने का उपदेश देकर एक अच्छा नेतृत्व कर रहा है “सर्वे भवन्तु सुखिनः, सर्वे संतु निरामया” के उच्चार से पूरे विश्व का मंगल हो ऐसी कामना कर रहा है, यह तो मैने भारत की बात की पर यह भारत कौन है? हम है भारत हमारा बढ़ाया हुवा हर एक कदम समाज के लिये हितकारी हो ऐसी भावना होगी तो ही भारत का और पूरे विश्व का मंगल होगा।

हम अपने अपने स्तर पर बहुत से कार्य करके सामाजिक कार्य कर इस महामारी से बाहर आ सकते है।

  1. वर्तमान में सबसे बड़ी जवाबदारी डॉक्टर, नर्स, पैरामेडिकल स्टाफ, पुलिस प्रसाशन, सरकार की है जिन्हें हम कही न कही मदद रूप बन सकते है (पुलिसकर्मियों को समयसर भोजन, चाय एवं अन्य आवश्यक चीजे पहुचे उस व्यवस्था में सहभागीता)
  2. आपने आसपास की शब्जी मार्केट में सोशियल डिस्टेंसिंग रहे ऐसी सुव्यवस्था की शुरुवात
  3. विस्तार के जरूरतमंद , आर्थिक तौर पर कमजोर लोगो तक भोजन अथवा राशन की व्यवस्था
  4. पुलिस प्रसाशन के साथ ट्रैफिक व्यवस्था में शामिल होना
  5. सरकार हस्तक राशन की दुकानों पर कार्यरत रहना नागरिक जन को नियमो का पालन करवाने हेतु एवं जागरूकता हेतु
  6. समाज मे चल रही कुरीतियों को बंद करवाना (दारू, पान , गुटका, सिगरेट) जैसे प्रवृत्ति बंद करने के सार्थक प्रयास
  7. ऐसी महामारी में सभी अपने घरों में ही है इसलिए लोगो में संस्कार का माध्यम बढ़ाने हेतु अलग अलग ऑनलाइन प्रवृत्ति 
  8. घर बैठे लोगों की शारीरिक सक्ष्मता बढ़े इसलिए ऑनलाइन शारीरक स्पर्धा का आयोजन
  9. विभिन्न संस्थओं के साथ जुड़ कर सेवा कार्यो में सहभागिता देना (NCC, राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ)
  10. अपरिचित को परिचित बना कर उनमे सेवा करने की भावना जागे इस हेतु से भी कार्य करना।

हमारी संस्कृति ही ऐसी है कि हममे सेवा का जज्बा जन्मजात मिलता है इस विकट परिस्थिति में हम समाज के साथ खड़े रहकर सभी को सहयोग प्रदान करे।

आभार

Get The Latest Updates

Subscribe To Our Newsletter

No spam, notifications only about new products, updates.